मंगलवार, 2 मार्च 2010

वैज्ञानिकों ने एलियन को ढूँढा मिल्की वे में

ज्यादातर हब्बल अंतरिक्ष दूरबीन से प्राप्त जानकारी से वैज्ञानिकों के समूह ने अपने तारा मंडल के पुराने तारा समूहो का परीक्षण किया . इस प्रयोग से उन्होने सबसे विस्तृत उच्च श्रेणी के एक सूचना संकलन का निर्माण किया जिसमे इनकी उम्र और रासायनिक प्रकृति का समावेश है . .
इस रिपोर्ट से यह भी पता चलता है की मिल्की वे ने कई बौने समूहों को निगल लिया है .पाये गए एलियन समूह  इन बौने समूहे के अंदर से आए हैं
यह रिपोर्ट रॉयल अस्त्रोनोमिकल सोसाइटी के अगले अंक में प्रकाशित होने वाली है

सौजन्य : IANS और याहू 

8 टिप्‍पणियां:

डॉ टी एस दराल ने कहा…

बहुत दिलचस्प जानकारी, सिन्हा जी।
वैसे यह तारामंडल बिलकुल इंसान के मस्तिष्क जैसा है , जो बड़ी मुश्किल से थोडा सा ही समझ आता है।
शुभकामनायें।

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत ही दिल चस्प जानकारी दी आप ने, तारामंडल के बारे तो सब की जिग्यासा बहुत होती है, धन्यवाद

Arvind Mishra ने कहा…

बहुत रोचक !

Udan Tashtari ने कहा…

रोचक जानकारी!

सतीश सक्सेना ने कहा…

बढ़िया और नवीनतम जानकारी के लिए शुक्रिया भाई जी !

Anil Pusadkar ने कहा…

चलो कोई और भी दुनिया है अपनी दुनिया सिवाय,ये तो पता चला।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

दिलचस्प जानकारी ...

Amrita ने कहा…

bahut hi aacha h ...aab ne dusari duniya ke bare me bataya bahut he aacha laga..