बुधवार, 24 मार्च 2010

एक अकेले वानर ने मंदिर तोड़े जाने का विरोध किया

आश्चर्यजनक किन्तु सत्य हनुमान जी के मंदिर को तोड़े जाने का एक वानर ने विरोध किया . यह घटना कर्नाटक के कोलार क्षेत्र की है . यह मंदिर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है . सड़क चौड़ी करने के लिए जब प्रशासन ने कार्यवाही प्रारंभ की तो यह वानर मंदिर के द्वार पर आकर खड़ा हो गया . ऐसा कहा जाता है की इस मंदिर का निर्माण 20 वर्ष पूर्वे हुआ था . हनुमान जी की प्रतिमा के नीचे एक वानर का शरीर दफ़न है ऐसा भी कहा जाता है .

कृष्णप्पा नाम के एक स्थानीय व्यक्ति का कहना है की पहले तो इसने चुपचाप विरोध किया द्वार पर खड़े हो कर, लेकिन जब तोड़ने वालों ने ध्यान नहीं दिया तो वानर ने वार कर दिया .

लोगों का कहना है की इसके पहले इसने कभी किसी पर आक्रमण नहीं किया . लोग अब इसकी पूजा हनुमान जी के रूप में कर रहे हैं





5 टिप्‍पणियां:

अक्षिता (पाखी) ने कहा…

आखिर बानर जी हनुमान जी के ही वंशज हैं...


----------------------
"पाखी की दुनिया" में इस बार पोर्टब्लेयर के खूबसूरत म्यूजियम की सैर

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

बहुत बढ़िया जानकारी रामनवमी पर्व की हार्दिक शुभकामना और बधाई ...

डॉ टी एस दराल ने कहा…

अब कोई किसी का घर तोड़ेगा तो विरोध तो करेगा ही ।
वैसे सड़क पर मंदिर बनते ही क्यों हैं, ये समझ में नहीं आता सिन्हा जी ।

डॉ टी एस दराल ने कहा…

अब कोई किसी का घर तोड़ेगा तो विरोध तो करेगा ही ।
वैसे सड़क पर मंदिर बनते ही क्यों हैं, ये समझ में नहीं आता सिन्हा जी ।

Gagan Sharma, Kuchh Alag sa ने कहा…

गजब है!!!