सोमवार, 20 अप्रैल 2009

राहुल गाँधी और वाजपेयी जी

राहुल ने टिपण्णी की है कि वाजपेयी जी को अपने गृहमंत्री पर विश्वास नहीं था । राहुल से कोई पूछेगा अगर कांग्रेस की सरकार रहती तो कंधार मामले में क्या करती । चीन से युद्ध के समय बंदूकें न चलने के कारण जो सैनिक मारे गए और हमारी हार हुई उसका जवाबदार कौन है । पाकिस्तान ने कश्मीर का एक हिस्सा हड़प लिया १९४७-४८ में कौन जिम्मेदार। भाषा के आधार पर राज्यों का पुनर्गठन कर जो जहर बीज बोया गया , कौन जिम्मेदार।

11 टिप्‍पणियां:

अनुनाद सिंह ने कहा…

सही सवाल है। पर जवाब कौन देगा?

Shiv Kumar Mishra ने कहा…

राहुल कौन?

मुंहफट ने कहा…

अरे महेश बाबू, आपने तो बड़ा सही सवाल उठाया. उसी में कुछ ये सवाल भी जोड़ लीजिए कि गुजरात में जो मारे गए, उनके लिए जिम्मेदार कौन है. अयोध्या के बहाने में देश भर में जो जहर बोया गया, उसके लिए जिम्मेदार कौन. जटा-जूट बढ़ाकर रामनाम के बहाने मुफ्त की मलाई सरपोटते भाजपा के पैरोकार साधुओं का क्या देश ने कर्ज खाया है, जो अन्न उगाने वाले किसान आत्म हत्याएं कर रहे हैं और वे मक्खन-मिसिरी उड़ा रहे हैं. यह भी पूछ लीजिए कि भाजपा और कांग्रेस में फर्क क्या है, खासकर परमाणु समझौते, पेटेंट आदि मुद्दों पर. दोनो पूंजीपतियों के पैसे से चुनावी डकार ले रहे हैं, इसलिए आप फालतू के कंधार-फंदार के चक्कर में न ही पड़िए तो ठीक.

RAJNISH PARIHAR ने कहा…

बी जे पी पर कीचड उछलने से कांग्रेस के दाग मिट नहीं सकते..!कांग्रेस ने ५० सालों में जो गलतियाँ की वो माफ़ी के काबिल नहीं है..!अब क्या क्या गिनाएं ..?सार इतना है की अब वोटों की राजनीति बंद होनी चाहिए...?जो पार्टी इतने योग्य नेताओं के होते सोनिया का दामान पकडे बैठी है..उससे क्या उम्मीद करनी...

Anil Pusadkar ने कहा…

महेश भैया राहुल बाबा को माफ़ कर दिजीये क्योंकि वे नही जानते कि वे क्या कह रहे हैं।

ab inconvinienti ने कहा…

बच्चा बुद्धि है बेचारा, चालीस की उम्र में भी सोच समझ नहीं सकता

Kaotuka ने कहा…

अपनी खूबियाँ जब नहीं दिखती तो दूसरों की खामियां दिखने लगती हैं. यही राजनीतिक पार्टियाँ कर रही हैं और हम भी. इस हम में मैं आपको भी शामिल कर रहा हूँ.

संजय बेंगाणी ने कहा…

यह सवाल देश की जनता से पूछा जाना चाहिए. जब उसे ही याद नहीं तो राहूल को क्या दोष. हमने हमेशा अपनी जमीन गवाईं है, क्यों?

etesh kumar ने कहा…

आप सभी फिरसे वही बहस करने लगे जिससे इस देश का कुछ भला नही होगा
उसके लिए आम जनता को समझन होगा की सही क्या है और गलत क्या ?
इसलिए सही को चुनिए देश को बचाइए .......

फिर वो कांग्रेस हो या हो फिर बी. जे. पी.
सच्चे को वोट दिया तो हमारे देश की जनता ही जीतेगी.

अंग्रेजो ने जो कोशिश की थी हमे बाटने की लगता है वो उसमे आज भी कामयाब है
क्योकि हम तो सिर्फ पार्टी के नाम के लिए लड़ रहे है! सच्चा कौन है वो तो हम जानने की कोशिश ही नहीं करते! सिर्फ बी. जे. पी. और कांग्रेस की जय के नारे याद है हमे .इस देश की जय करना तो जैसे भूल ही गए है.

जय हो.

बेनामी ने कहा…

Rajnatic partiya desh chalane ko ek job ki tarah le rahi hai.rastravadi sabd ab apradhic ho gaya hai. jo log KGB se vetan pate hai wo desh chala rahe hai. Actualy Desh chalane ka job kar rahe hai.aaj 1/3 BHARAT par hamare desh ka kanun nahi chalta.Is desh me ek kranti ke jarurat hai jo kabhi nahi hogi.Hamare DEsh ka media west ke pase se chal raha hai. Desh me aaj jo ho raha hai usko karne wale Deshdrohi hai.jisme ginti ke logo ko chode kar sab shamil hai.

बेनामी ने कहा…

Rajnatic partiya desh chalane ko ek job ki tarah le rahi hai.rastravadi sabd ab apradhic ho gaya hai. jo log KGB se vetan pate hai wo desh chala rahe hai. Actualy Desh chalane ka job kar rahe hai.aaj 1/3 BHARAT par hamare desh ka kanun nahi chalta.Is desh me ek kranti ke jarurat hai jo kabhi nahi hogi.Hamare DEsh ka media west ke pase se chal raha hai. Desh me aaj jo ho raha hai usko karne wale Deshdrohi hai.jisme ginti ke logo ko chode kar sab shamil hai.