रविवार, 20 दिसंबर 2009

क्या आप खर्राटे लेते हैं 2

मेरी पिछली पोस्ट पर कई प्रश्न पूछे गए . उनका समाधान करने के लिए यह पोस्ट .
खर्राटे गहरी नींद का परिचायक है यह सही है . लेकिन अगर अवरोध इतना होता होता है की पूरी साँस ही रुक जाए तो कुछ सेकंड के लिए आपकी नींद खुलती है और एक तेज साँस लेकर स्वशन क्रिया फिर प्रारंभ होती है , इस बात का आपको पता नहीं चलता . यह समस्या कितनी गंभीर हो सकती है  इसका एक विडियो देखिये . साथ ही इस पेज में और भी जानकारी उपलब्ध है
उम्र और मोटापे से इसका गहरा संबंध है . कई मोटे लोग इसके कारण लेट कर सो भी नहीं पाते .
खर्राटे के भी विभिन्न प्रकार होते हैं और इसकी प्रारम्भिक  जाँच नाक कान गले के विशेषज्ञ से करानी  चाहिए.
किसी सर्जरी जैसे बाइपास के बाद से इसका सीधा संबंध नहीं है .
छत्तीसगढ़ में शायद भिलाई के अपोलो अस्पताल में इसकी सुविधा है . अन्य निकट का स्थान नागपुर है .
इस जाँच को पोलीसोमनोग्राफी कहा जाता है .
मेरा प्रयास इस बारे में एक प्रारम्भिक जानकारी उपलब्ध कराना था . अन्य जानकारी विशेषज्ञ से प्राप्त करनी चाहिये. सामान्य जानकारी के लिये आपके प्रश्नो का स्वागत है

6 टिप्‍पणियां:

महफूज़ अली ने कहा…

बहुत अच्छा जानकारीपूर्ण लेख.....

अजय कुमार झा ने कहा…

ज्ञान वर्धक पोस्ट है डा. साहब , मुझे तो बिल्कुल भी पता ही नहीं था इस बारे मे, धन्यवाद

डॉ टी एस दराल ने कहा…

बहुत उपयोगी जानकारी।
यदि सोने में या दिन में जागने में परेशानी होने लगे तो डॉक्टर से सलाह ज़रूर करना चाहिए।

सुलभ सतरंगी ने कहा…

Jaankaari ke liye Aapka bahut dhanyawaad!!

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari ने कहा…

जानकारी के लिए धन्‍यवाद डाक्‍टर साहब.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

आपकी जानकारी बहुर अच्छी है .......... मैं भी बहुत खर्राटे लेता हूँ ......... लगता है जाँच का समय अब आ गया ..........