शुक्रवार, 18 दिसंबर 2009

क्या आप खर्राटे लेते हैं

क्या आप खर्राटे लेते हैं तो जरा सावधान हो जाइए क्योंकि यह एक  अच्छी अवस्था  नहीं है . इसे ओब्स्टृक्टिव स्लीप अप्निया कहा जाता है . याने नींद में आपकी साँस में अवरोध उत्पन्न होता है . इसके कारणो  में नाक से लेकर श्वांश नली  तक कोई कारण हो सकता है .
छोटी गरदन, मोटापा इसके अन्य कारणो में सम्मिलित है .खर्राटे भी कई प्रकार के होते हैं . कुछ लोगों की तो श्वांश  नींद  में पूरी तरह से अवरुध हो जाती है . यह एक गंभीर अवस्था है और लंबे समय में यह  आपके हृदय और मस्तिस्क पर बुरा प्रभाव डालती है . इस अवस्था में नींद पूरी नहीं होती और व्यक्ति को दिन में भी थकान लगती रहती है


Photo of the Stardust Sleep Recorderस्लीप रिकॉर्डर



इसके कारणों  की जाँच करने के लिए स्लीप लैब जाना पड़ता है जोकि सभी बड़े शहरों में उपलब्ध हैं . इसमे आपको एक यंत्र से जोड़ दिया जाता है जो नींद में आपकी गतिविधियों को संकलित करता है . इसका विश्लेषण करके  आपको उचित उपचार बताया जाता है जोकि वजन कम करने, नींद के दौरान  एक मशीन का उपयोग करने से, ऑपरेशन तक हो सकता है  .

8 टिप्‍पणियां:

निर्मला कपिला ने कहा…

बहुत अच्छी जानकारी है धन्यवाद्

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari ने कहा…

काम की जानकारी है यह, हममें से अधिकतम लोगों को यह समस्‍या . डॉक्‍टर साहब हमारे छत्‍तीसगढ़ में यह उपचार कहां मिल सकता है कृपया यहां बतायेंगें तो लोगों को सुविधा होगी.

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

ये आपने बडे काम की जानकारी दी. मुझे कभी भी पहले खर्राटे नही आते थे पर जब से मैने बायपास सर्जरी करवाई है, घर वाले कहते हैं कि मैं खर्राटे लेता हूं. इसका क्या कारण हो सकता है?

रामराम.

डॉ टी एस दराल ने कहा…

सिन्हा जी, थोड़े बहुत खर्राटे तो सभी लेते हैं।
लेकिन जांच कब करानी चाहिए, कृपया ये भी बताएं।
और मुलजिम बीबी हो तो क्या करें ?

परमजीत बाली ने कहा…

उपयोगी जानकरी दी है।आभार।

cmpershad ने कहा…

ये विज्ञान भी अजीब चीज़ है। अभी हाल ही पढा था कि खर्राटे स्वास्थ की निशानी है और अब.....

किस को मुजरिम समझे कोई किस को दोष लगाए..>:)

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर जानकारी दी आप ने, वेसे इस का अप्रेशान छोटा सा होता है, ओर हमारे देश मै तो इन खर्राटेऒ के कारण तलाक भी हो जाते है

BrijmohanShrivastava ने कहा…

सर जी मैने कहीं पढा है कि एक आसन जिसे सिंहआसन कहते है उसके करने से खर्राटे लेना कम हो जाता है ।काम का लेख लिखा हैआपने आजकल यह समस्या ज्यादा ही बढती जा रही है ,।बाबा रामदेव भी कुछ आसन बतलाते है जिससे खर्राटे लेना कम हो जाता है